मकर संक्रांति एवं आजादी के अमृत महोत्सव पर हुआ करोड़ों बार सूर्य-नमस्कार

हरिद्वार, 14 जनवरी। आयुष मंत्रालय एवं पतंजलि योगपीठ के संयुक्त प्रयास से मकर संक्रांति एवं आजादी के अमृत महोत्सव पर्व के उपलक्ष्य में 1 करोड़ से अधिक लोगों ने सूर्य नमस्कार किया। उल्लेखनीय है कि आयुष मंत्रालय भारत सरकार ने अमृत महोत्सव के अन्तर्गत अनेक मंत्रालयों के सहयोग व प्रमुख राष्ट्रीय स्तर के योग संस्थानों विशेषतः पतंजलि योगपीठ, क्रीड़ा भारती नेशनल योगासन स्पोर्ट्स फेडरेशन, गीता परिवार एवं हार्टफुलनेस संस्थान के लाखों योग साधकों ने 75 लाख से अधिक लोगों का पंजीकरण किया एवं उन्हें सूर्य-नमस्कार करने के लिए प्रेरित किया। जिन्होंने प्रातः 7 बजे से इस कार्यक्रम में ऑनलाइन भागीदारी करते हुए 1 करोड़ से अधिक प्रतिभागियों ने 13 बार सूर्य-नमस्कार करके एक ही दिन में 10 करोड़ से अधिक सूर्य नमस्कार के अभ्यास करने का विश्व कीर्तिमान बनाया।
आज इस महा अभियान का उद्घाटन DD News चैनल पर ऑनलाइन माननीय केन्द्रीय आयुष मंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल एवं योगऋषि स्वामी रामदेव जी द्वारा 13 सूर्य नमस्कार का अभ्यास करके किया गया। इस अवसर पर श्री श्री रविशंकर जी, श्री जग्गी वासुदेव जी महाराज, डॉ नागेंद्र जी, श्रद्धेय आचार्य बालकृष्ण जी हरिद्वार से, माता हँसा जयदेव जी मुंबई से, वैद्य राजेश कोटेजा आयुष सचिव दिल्ली, राष्ट्रीय आयोजन समिति के अध्यक्ष एवं हरियाणा योग आयोग के चेयरमैन आदरणीय डॉ जयदीप आर्य जी उपस्थित रहे।
उल्लेखनीय है कि 3 जनवरी से 20 फरवरी तक योगऋषि स्वामी रामदेव जी महाराज के नेतृृत्व में 75 करोड़ सूर्य-नमस्कार आयोजित करने का अभियान निरंतर चल रहा है उसकी श्रृंखला में आज मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर पूज्य योगर्षि स्वामी रामदेव जी के साथ समूचे विश्व से 75 लाख से अधिक लोगों ने डीडी न्यूज चैनल, आस्था टीवी, इंडिया टीवी, फेसबुक समेत अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, eduset पोर्टल से जुड़कर देश विदेश के विभिन्न स्थानो पर 10 करोड़ से अधिक बार सूर्य नमस्कार आसन का अभ्यास आनलाइन-ऑफलाइन किया गया।
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन में, आयुष मंत्रालय भारत सरकार, पतंजलि योगपीठ, राष्ट्रीय योगासन खेल संघ NYSF, गीता परिवार हर्टफुलनेस संस्था, हरियाणा योग आयोग द्वारा संयुक्त रूप से आजादी की 75वीं वर्षगाँठ पर, वीर शहीदों के सम्मान में वैश्विक स्तर पर चलाए जा रहे 3 जनवरी 2022 से 20 फरवरी 2022 तक, 75 करोड़ सूर्य नमस्कार प्रकल्प के माध्यम से पंजीकरण कर देश के सभी राज्यों से लाखों लोग, शैक्षिक संस्थानों द्वारा प्रतिदिन करोड़ो सूर्य नमस्कार कर राष्ट्रवन्दना की जा रही है।
इस अवसर पर पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा ट्रैडिशनल आयुर्वेदिक मेडिसिन पर क्लिनिकल तथा एनिमल ट्रायल करने के बाद जो 100 रिसर्च एण्ड एविडेंस बेस्ड मेडिसिन के रिसर्च अनुसंधान विश्व के प्रतिष्ठित साइंटिफिक जर्नल्स में रिसर्च पेपर के रूप में प्रकाशित हुए हैं उसकी एक संकलन पुस्तिका ‘Evidence based, scientifically validated medicines for your overall health’ का भी अनावरण योगऋषि स्वामी जी महाराज, पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज, साध्वी आचार्या देवप्रिया जी, डॉ. जयदीप आर्य जी, भाई राकेश जी, डॉ. अनुराग वार्ष्णेय जी, स्वामी परमार्थ देव जी, साध्वी देवमयी जी आदि गणमान्यों द्वारा किया गया।
माँ भारती की यशोगाथा का परचम चहुंओर प्रचारित-प्रसारित करने के उद्देश्य से संचालित राष्ट्रगौरव राष्ट्रवन्दना के इस दिव्य अनुष्ठान में एलेन कैरियर इंस्टीट्यूट, नवयोगा, डी.ए.वी. कालेज मैनेजिंग कमेटी, भारत स्काउट गाइड संस्था के सहयोग से देश के कोने-कोने से हजारों विद्यार्थियों की शैक्षणिक-गैरशैक्षणिक संस्थान भागेदारी हो रही है।
भारतीय ज्ञान-विज्ञान की प्राचीनतम विरासत योग को वैश्विक स्तर पर प्रचारित-प्रसारित करने के लिए अपनी प्रतिभागिता, अपने संस्थान की प्रतिभागिता सुनिश्चित करने के लिए पर पंजीकरण अवश्य करें। आगामी 20 फरवरी तक चलने वाले इस मुहिम में 21 दिन तक प्रतिदिन 13 सूर्य नमस्कार करके आप इस कार्यक्रम का हिस्सा बनें और प्रमाण-पत्र प्राप्त करें।

Total Views: 1487 ,

Related posts

Leave a Comment