देश के जिमेदार केंद्रीय मंत्रियों से बस्तर जन हितेषी मुद्दो पर चर्चा व उचित कार्यवाही की मांग को लेकर मुक्ति मोर्चा व जनता कांग्रेस जे के नेता नवनीत चांद के नेतृव में प्रतिनिधि मंडल दिल्ली रवाना -भरत कश्यप

प्रमुख मांग – बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था के तहत , विशेषज्ञ डॉक्टर की नियुक्ति , सुपर स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल को एम्स द्वारा संचालन, पासपोर्ट कार्यालय के उद्घाटन, दिल्ली विशाखापट्टनम हवाई कनेक्टिविटी, रेलवे सुविधाएं ,सैनिक स्कूल

जगदलपुर ।बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा के मुख्य संयोजक एवं जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के बस्तर जिला अध्यक्ष नवनीत चांद के नेतृत्व में बस्तर के जन हितेषी मुद्दों को लेकर मुक्ति मोर्चा व जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे का प्रतिनिधिमंडल आज जगदलपुर से दिल्ली रवाना हो रहा है इस प्रतिनिधिमंडल में मुक्ति मोर्चा के जिला अध्यक्ष भरत कश्यप जिला उपाध्यक्ष नीलांबर सेठिया एवं मुक्ति मोर्चा युवा विंग के महामंत्री डेनिस राज भी शामिल है। बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा के मुख्य संयोजक एवं जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के बस्तर जिला अध्यक्ष नवनीत चांद ने दिल्ली प्रवास के बारे में बताया कि ,मुक्ति मोर्चा व जनता कांग्रेस जी द्वारा लगातार बस्तर जन हितेषी मुद्दों को लेकर विगत 3 वर्षों से बस्तर एवं राज्य की राजधानी में राज्य के सभी जिम्मेदारों व देश के जिम्मेदार मंत्रियों के समक्ष अपनी बात रखी है। कुछ मांगे पूरी हुई है ।तो कुछ मांगे अब भी बस्तर जनहित में पूरी नहीं हो पाई है।बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा व जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे का प्रतिनिधिमंडल 1 अगस्त से 6 अगस्त तक देश की राजधानी दिल्ली में भारत सरकार के विभिन्न केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात कर बस्तर जन हितेषी मुद्दे जैसे पासपोर्ट कार्यालय का उद्घाटन, बस्तर की बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था हेतु विशेषज्ञ डॉक्टरों की नियुक्ति वर्तमान में बस्तर में नवनिर्मित सुपर स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल को केंद्रीय स्वास्थ्य एजेंसी एम्स के माध्यम से संचालन की मांग, उड़ान योजना के तहत प्रारंभ हवाई यात्रा को बस्तर वासियों के लिए और सरल बनाने हेतु नए रूट में दिल्ली व विशाखापट्टनम की उड़ानों को प्रारंभ करने की मांग रेलवे सुविधाओं के विस्तारीकरण की मांग जैसे अन्य विभिन्न मुद्दों पर मंत्रियों से मुलाकात कर उचित कार्रवाई हेतु निवेदन किया जाएगा। इस कार्यक्रम का प्रमुख उद्देश्य भारत की राजधानी में बस्तर के वास्तविक विकास और जनहित के मुद्दों से देश के जिम्मेदारों को अवगत करवाना है ताकि देश के अन्य विकसित क्षेत्रों की तरह बस्तर भी कदम से कदम मिलाकर खुद को विकसित कर सके और बस्तर के आदिवासी बहुल क्षेत्र के लोग भी देश और दुनिया से जुड़ सकें देश के सबसे बड़े संवैधानिक पद पर बतौर राष्ट्रपति श्रीमती द्रोपति मुर्मू को देश के राजनीतिक दलों ने आदिवासी हित में प्रथम आदिवासी राष्ट्रपति के रूप में नियुक्त किया है। इस बड़ी नीति से बस्तर के आदिवासी बहुल क्षेत्र में भी विकास की एक नई ललक जग गई है। इसलिए बस्तर का प्रतिनिधिमंडल बस्तर के विकास की मांगों को लेकर देश के जिम्मेदार केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात कर बस्तर के प्रति विशेष ध्यान वह विकास के कदम उठाने की मांग रखेगा।*

Related posts

Leave a Comment