नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने पर केमिस्ट की हत्या

नागपुर : भाजपा से निष्कासित नेता नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट शेयर करने को लेकर महाराष्ट्र के अमरावती में एक दवा कारोबारी (केमिस्ट) की हत्या करने का मामला प्रकाश में आया है. पुलिस की ओर से दिए गए बयान के अनुसार, अमरावती में दवा कारोबारी प्रह्लादराव कोल्हे ने भाजपा से निलंबित प्रवक्ता नुपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर कथित तौर पर कुछ टिप्पणी की थी. पुलिस के अधिकारियों ने आशंका जाहिर करते हुए कहा कि इसी पोस्ट को लेकर कुछ लोगों ने दवा कारोबारी उमेश की हत्या कर दी. इस सिलसिले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

उधर, खबर यह भी है कि गृह मंत्रालय ने 21 जून को अमरावती महाराष्ट्र में उमेश कोल्हे की बर्बर हत्या से संबंधित मामले की जांच एनआईए को सौंप दी है. हत्या के पीछे की साजिश, संगठनों की संलिप्तता और अंतरराष्ट्रीय संबंधों की गहन जांच की जाएगी. उन्होंने (उमेश कोल्हे) फेसबुक पर निलंबित भाजपा नेता नूपुर शर्मा के समर्थन में एक पोस्ट किया था.

इसके साथ ही, अमरावती के एक दुकान के मालिक उमेश कोल्हे की हत्या के सिलसिले में पांच लोगों को गिरफ़्तार किया. स्थानीय अदालत ने उनको 5 जुलाई तक पुलिस हिरासत में भेजा है.

21 जून को दवा कारोबारी की हत्या की गई

पुलिस एक अधिकारी के अनुसार, महाराष्ट्र के अमरावती शहर में कुछ लोगों द्वारा 54 वर्षीय एक कैमिस्ट की चाकू मारकर हत्या कर दी. पुलिस के मुताबिक, कैमिस्ट उमेश प्रह्लादराव कोल्हे ने भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नुपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर कथित तौर पर कुछ टिप्पणी की थी. अधिकारियों ने संदेह जताया है कि इसी पोस्ट को लेकर कुछ लोगों ने उमेश की हत्या कर दी. 21 जून को हुई उमेश की हत्या के सिलसिले में अब तक कुल पांच लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

मुख्य आरोपी की तलाश जारी

अमरावती की पुलिस आयुक्त डॉ आरती सिंह ने शनिवार को कहा कि केमिस्ट की हत्या के सिलसिले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने कहा कि मुख्य आरोपी इरफान खान (32) की तलाश जारी है, जो एक गैर-सरकारी संगठन चलाता है. यह घटना राजस्थान के उदयपुर में दर्जी कन्हैया लाल की हत्या से एक हफ्ते पहले की है. अमरावती सिटी कोतवाली थाने के एक अधिकारी ने कहा कि उमेश अमरावती शहर में एक दवा की दुकान चलाता था.

पांच लोगों ने घटना को दिया अंजाम

उन्होंने बताया कि उसने कथित तौर पर नुपुर शर्मा के समर्थन में कुछ व्हाट्सएप ग्रुप में एक पोस्ट साझा किया था. उमेश ने गलती से यह पोस्ट एक ऐसे व्हाट्सएप ग्रुप में भेज दिया था, जिसमें दूसरे समुदाय के सदस्य भी थे. अधिकारी के मुताबिक, इरफान खान नामक एक व्यक्ति ने कथित तौर पर उमेश की हत्या की साजिश रची और इसके लिए पांच लोगों की मदद ली. उन्होंने बताया कि इरफान ने उन पांच लोगों को 10-10 हजार रुपये देने और एक कार में सुरक्षित रूप से फरार होने में मदद करने का वादा किया था.

Related posts

Leave a Comment