उदयपुर सिर काटने की घटना : चारों आरोपियों को 10 दिन की NIA की रिमांड में भेजा

जयपुर स्थित नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) कोर्ट ने उदयपुर हत्याकांड मामले में गिरफ्तार किए गए चारों आरोपियों मोहम्मद रियाज अख्तरी, गौस मोहम्मद और उनके साथी आसिफ और मोहसिन को 10 दिन की NIA रिमांड में भेज दिया है। उदयपुर की घटना के विरोध में वकीलों में काफी आक्रोश नजर आया। कोर्ट परिसर में वकीलों द्वारा नारेबाजी करने के साथ ही आरोपियों को फांसी दिए जाने की मांग की गई। 

एनआईए और आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) की एक टीम ने उदयपुर में दर्जी कन्हैयालाल की नृशंस हत्या के चार आरोपियों को कड़ी सुरक्षा के बीच शनिवार को जयपुर की एनआईए कोर्ट में पेश किया। कोर्ट में पेश करने से पहले आरोपियों को लेकर पुलिस टीम एटीएस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) के कार्यालय में पहुंची।

एनआईए ने एटीएस से सभी दस्तावेजी सबूत एकत्र किए। इसके बाद कन्हैया लाल हत्याकांड के दो मुख्य आरोपियों मोहम्मद रियाज अख्तरी, गौस मोहम्मद और उनके साथी आसिफ और मोहसिन सहित चारों आरोपियों को एनआईए और एटीएस के दल ने अदालत में पेश किया। सुरक्षा कारणों से अदालत और शहर के इलाकों में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है।

उल्लेखनीय है कि गत 28 जून को कन्हैयालाल की हत्या के बाद राज्य सरकार ने विशेष अनुसंधान दल (एसआईटी) का गठन कर जांच शुरू की थी, लेकिन बाद में आरोपियों के तार दूसरे देशों से भी जुड़े होने के कारण इस मामले की जांच एनआईए को सौंप दी गई है। 

हत्या के मुख्य आरोपी रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद ने कथित तौर पर 28 जून को भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा का समर्थन करने के लिए दर्जी कन्हैया लाल की उनकी दुकान पर चाकू से सिर कलम कर हत्या कर दी थी। इस नृशंस हत्याकांड के बाद इन आरोपियों ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट करते हुए कहा था कि वे इस्लाम के अपमान का बदला ले रहे हैं।

Related posts

Leave a Comment