छत्तीसगढ़ में अब हफ्ते में 2 दिन छुट्टी मिलेगी सरकारी कर्मचारियों को, मजदूरों की दो बेटियों के खाते में 20 हजार आएंगे

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 73वें गणतंत्र दिवस पर कई घोषणाएं कीं। श्रमिक परिवारों की बेटियों के लिए मुख्यमंत्री नोनी सशक्तिकरण सहायता योजना शुरू की जाएगी, जिसके तहत लाभार्थियों की पहली 2 बेटियों के बैंक खाते में 20-20 हजार रुपये की राशि का एकमुश्त भुगतान किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने राज्य के कर्मचारियों को भी बड़ा तोहफा दिया है। उन्हें अब सप्ताह में 5 दिन ही काम करना होगा और उनकी पेंशन योजना में राज्य सरकार 10% के बजाय 14% अंशदान देगी। इसके अलावा खरीफ वर्ष 2022-23 से प्रदेश के किसानों से दलहन फसल जैसे मूंग, उड़द, अरहर इत्यादि की खरीदी भी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जाएगी।
जगदलपुर में आयोजित मुख्य समारोह में सीएम बघेल ने कहा कि लर्निंग लाइसेंस बनाने की प्रक्रिया का सरलीकरण एवं बड़ी संख्या में परिवहन सुविधा केंद्र, युवा रोजगार हेतु आरंभ किए जाएंगे। रिहायशी क्षेत्रों में संचालित व्यवसायिक गतिविधियों के नियमितीकरण के लिए आवश्यक प्रावधान किए जाएंगे। समस्त अनियमित भवन निर्माण के नियमितीकरण के लिए इसी वर्ष कानून लाया जाएगा और नगर निगम के बाहर निवेश क्षेत्रों में 500 वर्ग मीटर के भूखंड के लिए बिना हस्तक्षेप के भवन अनुज्ञा जारी की जाएगी। महिला सुरक्षा के लिए प्रत्येक ज़िले में “महिला सुरक्षा प्रकोष्ठ” का गठन किया जाएगा। प्रदेश में तीरंदाजी को प्रोत्साहित करने हेतु जगदलपुर में “शहीद गुण्डाधुर राज्य स्तरीय तीरंदाजी अकादमी” प्रारंभ की जाएगी।

अंशदायी पेंशन में राज्य का अंशदान अब 14%
सीएम ने कहा कि शासकीय कर्मचारियों के हित में “अंशदायी पेंशन योजना” के अंतर्गत राज्य सरकार का अंशदान 10% से बढ़ाकर 14% किया जाएगा। वृक्ष कटाई अनुमति के नियमों का सरलीकरण करते हुए नागरिकों के हित में नियमों में आवश्यक संशोधन किए जाएंगे। शासकीय कर्मचारियों की कार्य-क्षमता और उत्पादकता बढ़ाने छत्तीसगढ़ सरकार अब 5 कार्य दिवस प्रति सप्ताह प्रणाली पर कार्य करेगी। नल कनेक्शन प्रक्रिया का सरलीकरण करते हुए हस्तक्षेप मुक्त किया जाएगा। शहरी क्षेत्रों की तरह ग्रामीण क्षेत्रों में शासकीय पट्टे की भूमि फ्री होल्ड की जाएगी। मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना प्रदेश के सभी नगरीय निकायों में शुरू की जाएगी। औद्योगिक नीति में संशोधन कर अन्य पिछड़ा वर्ग में उद्यमिता विकास हेतु 10% भूखंड आरक्षित किए जाएंगे।

राज्यपाल उइके ने रायपुर में किया ध्वजारोहण
छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके ने राजधानी रायपुर के पुलिस परेड ग्राउंड में ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर सशस्त्र बल के जवानों ने राष्ट्रीय ध्वज एवं राज्यपाल को गार्ड ऑफ ऑनर दिया। राज्यपाल ने कहा कि आजादी के आंदोलन से लेकर गणतंत्र का वरदान दिलाने तक जिन महान विभूतियों ने अपना योगदान दिया, उन सबकों मैं सादर नमन करती हूं। हमारे दूरदर्शी पुरखों ने आजादी की लड़ाई के साथ-साथ आजाद भारत के संविधान का सपना सपना देखा और भारत के नवनिर्माण की नींव रखी थी। उसी पर देश बुलंदियों के नए-नए शिखरों पर पहुंचा है।

Related posts

Leave a Comment