छत्तीसगढ़ पुलिस में पहली बार थर्ड जेंडर, भर्ती के लिए पुलिस दे रही ट्रेनिंग – एसएसपी अजय यादव

रायपुर, कल तक जिस वर्दी की धौंस जमाकर पुलिस वाले ट्रेनों में या चौक-चौराहों पर बड़ी हिकारत के साथ थर्ड जेंडरों को हटा देते थे। अब वही वर्दी थर्ड जेंडर्स के शरीर पर सजेगी। अब वे पुलिस जवानों के कंधे से कंधा मिलाकर क्राइम कंट्रोल करेंगे। रायपुर में थर्ड जेंडर नया इतिहास रचने व पुलिस में शौर्य दिखाने रिजर्व पुलिस लाइंस के ग्राउंड में पसीना बहा रहे हैं। करीब 20 थर्ड जेंडर सदस्यों काे आरआई सीपी तिवारी की मौजूदगी में रोज साढ़े 4 घंटे की ट्रेनिंग दी जा रही है। रायपुर के इतिहास में पहला मौका होगा, जब थर्ड जेंडर को पुलिस में भर्ती से पहले योग्य बनाने ट्रेनिंग दी जा रही है। दरअसल थर्ड जेंडर सदस्यों ने एसएसपी अजय यादव से भर्ती में शामिल होने से पहले अभ्यास करने आवेदन दिया था। इसके बाद एसएसपी ने उन्हें रिजर्व पुलिस लाइंस के परेड ग्राउंड में प्रशिक्षण देने की सहमति व्यक्त की थी। करीब 20 दिनों से थर्ड जेंडर सदस्यों को ट्रेनिंग दी जा रही है।

दो पालियों में प्रशिक्षण – आरआई के मुताबिक करीब 20 थर्ड जेंडर सदस्यों को पुलिस भर्ती की ट्रेनिंग दी जा रही है। इन्हें डीएसपी लाइंस एमएस चंद्रा, आरआई सीपी तिवारी, ट्रेनर लोकेश वर्मा और सरिता यादव द्वारा दो पालियों में ट्रेनिंग दी जा रही है। पहली पाली में सुबह 8.30 बजे से 10.30 बजे तक और शाम को 5 बजे से शाम 7.30 बजे तक ट्रेनिंग होती है

दौड़, गोला फेंक समेत अन्य प्रशिक्षण – अफसरों के मुताबिक रिजर्व पुलिस लाइंस के परेड ग्राउंड में थर्ड जेंडर को पांच तरह की ट्रेनिंग दी जा रही है। इसमें पुलिस भर्ती के मानक के हिसाब से ऊंची कूद, लंबी कूद, 800 मीटर व 100 मीटर की टाइमिंग के हिसाब से दौड़ की ट्रेनिंग दी जा रही है। वहीं 6 से 9 मीटर तक गोला फेंक की ट्रेनिंग दी जा रही है।

जनवरी तक होगी ट्रेनिंग -अफसरों के मुुताबिक थर्ड जेंडर को बीते 17 नवंबर से रिजर्व पुलिस लाइंस स्थित परेड ग्राउंड में ट्रेनिंग दी जा रही है। इन्हें जनवरी 2021 तक नियमित ट्रेनिंग दी जाएगी। पुलिस की तरफ से इन्हें उपकरण और जरूरत के सामान उपलब्ध कराए गए हैं।

अभ्यास करा रहे – थर्ड जेंडर सदस्यों ने भर्ती में शामिल होने से पहले प्रैक्टिस करने आवेदन किया था। थर्ड जेंडर्स को रिजर्व पुलिस लाइंस में प्रशिक्षण दिया जा रहा है, ताकि पुलिस भर्ती में उनका सलेक्शन हो सके। – अजय यादव, एसएसपी,

Related posts

Leave a Comment