कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का भारत बंद का रायपुर में दिखा असर – ट्रैक्टर चालकर जयस्तंभ चौक पहुंचे पीसीसी चीफ मोहन मरकाम

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का भारत बंद का असर छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में दिख रहा है। रायपुर के जय स्तंभ चौक में पीसीसी चीफ मोहन मरकाम के नेतृत्व में कांग्रेस प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं ट्रेड यूनियन भी काले कानून के खिलाफ आवाज बुलंद कर रही हैं। इधर मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भी बंद का असर दिख रहा हैं। आर्थिक राजधानी इंदौर में प्रशासन ने अनाज छावनी मंडी में धारा 144 लागू किया गया है। हालांकि व्यापारियों ने बंद को समर्थन नहीं दिया है।मोदी सरकार के तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ भारत बंद के आह्वान का असर पूरे प्रदेश में दिख रहा है। राजधानी में ट्रैक्टर चालकर जयस्तंभ चौक पहुंचे पीसीसी चीफ मोहन मरकाम ने कहा कि केंद्र सरकार के काले कानून के खिलाफ कांग्रेस किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है। वहीं आज भारत बंद का असर पूरे प्रदेश में दिख रहा है। गांव से लेकर ब्लाक, शहर में किसानों के समर्थन में प्रदर्शन हो रहा है। सरकार को हर हाल में काले कानून को वापस लेने होगा। राजधानी में प्रदर्शन में विधायक विकास उपाध्याय, मेयर एजाज ढेबर, विधायक कुलदीप जुनेजा सहित कांग्रेस के आला नेता और सैकड़ों कार्यकर्ता रैली निकालकर प्रदर्शन कर रहे हैं। बता दें कि किसानों के भारत बंद को देश के 20 से ज्यादा राजनीतिक दलों और 10 ट्रेड यूनियनों ने समर्थन दिया है।

दिग्विजय देंगे धरना

भारत बंद के तहत राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह की मौजूदगी में कांग्रेस छावनी मंडी में धरना देगी। कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा सहित कांग्रेस विधायक धरना प्रदर्शन में शामिल होंगे। बता दें कि किसानों के भारत बंद को इंदौर के व्यापारियों ने समर्थन नहीं दिया है। जिसके चलत बाजार खुले रहेंगे। इधर जबलपुर में कृषि संशोधन बिल के विरोध में आम आदमी पार्टी भी प्रदर्शन करेगी। किसानों के समर्थन में पैदल मार्च निकालेंगे।

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने भी दिया समर्थन

भारत बंद का बिलासपुर में भी असर दिख रहा है। शहर की तमाम व्यापारिक संगठनों ने बंद को अपना समर्थन दिया है। जिसके चलते शहर के मार्केट बंद है। किसान और कांग्रेस विरोध में कृषि बिल की प्रतियां जलाएंगे। वहीं कांग्रेस के अलावा अलग अलग राजनीतिक संगठन भी कृषि बिल को लेकर विरोध प्रदर्शन करेगी। बता दें कि गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने भी बंद को समर्थन दिया है।

Related posts

Leave a Comment