भी कमल शुक्ला मुझे भी गोली मारो…, बस्तर में पत्रकारों ने किया आवाज बुलंद

जगदलपुर । कांकेर मामले में जगदलपुर में वरिष्ठ और युवा पत्रकारों ने कांकेर कांड के खिलाफ आवाज बुलंद की। पत्रकारों ने सिर पर पट्टी बांधकर मारपीट में घायल कांकेर के पत्रकार कमल शुक्ला के समर्थन में विरोध प्रदर्शन किया। पत्रकारों ने हाथ में एक पोस्टर भी थाम रखा था, इस पर लिखा था मैं भी कमल शुक्ला, मुझे भी गोली मारो। दरअसल कांकेर में पत्रकार कमल शुक्ला से मारपीट करने वाले कांग्रेस नेता गफ्फार मेमन ने थाना परिसर में लायसेंसी पिस्तौल से गोली मारने की धमकी दी थी। इस मामले में आरोंपियों पर कार्रवाई की मांग के साथ पत्रकारों ने अपर कलेक्टर अरविंद एक्का को संभागीय कमिश्नर के नाम ज्ञापन भी सौंपा।

ज्ञापन में बस्तर के पत्रकारों ने राज्यपाल से आग्रह किया है कि अभिव्यक्ति पर इस जघन्य हमले पर दोषियों के विरुद्ध हत्या का प्रयास करने का मामला दर्ज होना चाहिए तथा रेत तस्करों को संरक्षण देने वाले अधिकारियों को कांकेर से हटाए जाएं। जगदलपुर के पत्रकारों से यह भी मांग रखी है कि राज्य में पत्रकार सुरक्षा कानून जल्द से जल्द लागू किया जाये। पत्रकारों ने कहा है कि कांकेर में दो दिन पहले भ्रष्टाचार की खबरों के उजागर होने से नाराज कांग्रेसियों ने कमल शुक्ला पर जानलेवा हमला किया। थाना परिसर में गुंडागर्दी की। पूरा हंगामा पुलिस के सामने ही हुआ। इसलिए जगदलपुर में पत्रकारों ने मांग की है इस मामले में कलेक्टर और एसपी पर भी कार्रवाई होनी चाहिए। पत्रकारों ने दो टूक कहा है कि 1 अक्टूबर तक अगर इस मामले में कार्रवाई नहीं हुई तो 2 अक्टूबर को बस्तर के सारे पत्रकार मुख्यमंत्री निवास रायपुर में धरना देने के लिए मजबूर हो जाएंगे।

Related posts

Leave a Comment